जीएसटी में रिवर्स चार्ज क्या है? कब लगता है? What Is Reverse Charge In GST (Hindi)

GST में टैक्स वसूलने और जमा करने की प्रक्रिया में सरकार ने एक Reverse Charge (Reverse GST) की प्रक्रिया भी शामिल की है। हालांकि, शुरुआती दौर में कारोबारियों को ज्यादा उलझाव से बचाने के लिए फिलहाल Reverse Charge को स्थगित रखा गया है। नवीनतम सूचना के मुताबिक Reverse Charge System को जुलाई 2018 तक के लिए टाल दिया गया है। इसके बावजूद कारोबारियों में Reverse Charge को लेकर बड़ी जिज्ञासा है और इंटरनेट पर इसे खूब सर्च भी किया जा रहा है। इस लेख में हमने Reverse Charge की इसी गुत्थी को सुलझाने की कोशिश की है। इस लेख में आप जानेंगे कि Reverse Charge क्या है? इसे Reverse Charge क्यों कहते हैं? Reverse Charge किन स्थितियों में लागू होता है? Reverse Charge की वसूली और भुगतान कैसे होता है?

Must See: जीएसटी में इनपुट क्रेडिट क्या है? कैसे क्लेम करें?

पूरा लेख एक नजर में [+]

जीएसटी में, रिवर्स चार्ज क्या है?

What is Reverse Charge In GST?

Reverse Charge जिन दो शब्दों से मिलकर बना है, उसमें Reverse का मतलब है उल्टा (तरीका) और Charge का मतलब है वसूली (टैक्स/GST की)। इन दोनों शब्दों के अर्थों को जोड़ने पर साफ-साफ समझ में आता है कि टैक्स (GST) वसूली की सामान्य प्रक्रिया के बजाय उल्टे तरीके होने वाली प्रक्रिया को Reverse Charge कहते हैं। लेकिन, उल्टा तरीका क्या है? यह जानने के लिए पहले हमें सीधा तरीका तो मालूम होना चाहिए। तो जीएसटी का सीधा तरीका क्या है, पहले उसी पर बात करते हैं।

सामान्य जीएसटी सिस्टम में GST टैक्स चुकाने और टैक्स जमा करने की जिम्मेदारी अलग-अलग लोगों की होती है।

जो व्यक्ति सामान या सेवा खरीदता है, उसे GST चुकाना पड़ता है। ये भुगतान वह उस दुकानदार या कारोबारी को करता है, जिसने सामान (Goods) बेचा है या सेवा (Service)  दी है।

जिस व्यक्ति ने सामान (Goods) या सेवा (service) बेची है, उसे अपने ग्राहक से GST वसूलकर रखना पड़ता है और फिर उसे Government के पास जमा कर देना होता है।

रिवर्स चार्ज सिस्टम में, टैक्स जमा करने प्रक्रिया को उल्टा कर दिया गया है (सिर्फ, कुछ विशेष तरह के मामलों में)

इन विशेष मामलों की जानकारी भी हम इसी लेख में आगे चलकर दे रहे हैं। पहले समझते हैं कि जीएसटी की प्रक्रिया उलटी कैसे हो सकती है।

Reverse Charge सिस्टम में जो व्यक्ति सामान (Goods) या सेवा (service) खरीदता है यानी कि purchaser उसके पास ही GST वसूलने की जिम्मेदारी होती है। जबकि, सामान्य प्रक्रिया में खरीदार GST वसूल नहीं सकता।

सामान या सेवा खरीदने वाले (Purchaser) की ही सरकार के पास GST जमा करने की भी जिम्मेदारी होती है। जबकि सामान्य प्रक्रिया में GST जमा करने की जिम्मेदारी विक्रेता (Seller) की होती थी।

यही कारण है कि ऐसे मामलों में अपनाई गई टैक्स वसूली की उल्टी प्रक्रिया को ”रिवर्स चार्ज” का नाम दिया गया है।

In Short: In GST Reverse Charge Mechanism, the GST is to be paid and deposited with the Govt by the recipient of Goods/Services, not by the supplier of Goods/ Services.

एक लाइन में कहें तो, रिवर्स चार्ज सिस्टम में, जीएसटी वसूलने और जमा करने की जिम्मेदारी खरीदार की होती है। विक्रेता की नहीं।

See Also: जीएसटी में इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर क्या है

Reverse GST in Hindi

किन मामलों में लागू होगा रिवर्स चार्ज?

Where Reverse Charge Applied

जैसा कि, हमने ऊपर बताया कि Reverse GST की व्यवस्था कुछ खास तरह के सौदों के लिए ही की गई है, सभी सौदों के लिए नहीं। तो अब हम उन मामलों की जानकारी यहां दे रहे हैं, जिन पर सरकार ने Reverse GST यानी Reverse Charge सिस्टम लागू किया है।

A. जब रजिस्टर्ड दुकानदार किसी गैर-रजिस्टर्ड दुकान से सामान खरीदे

Supply from Unregistered dealer To a Registered dealer

अगर कोई रजिस्टर्ड कारोबारी (GSTमें ), किसी ऐसे दुकानदार या व्यक्ति से सामान खरीदता है, जो कि GST में Registerd नहीं है तो खरीदने वाले कारोबारी पर ही Reverse Charge लगेगा। हालांकि, यह उस Reverse GST को विक्रेता को चुकाई जाने वाली रकम से काटकर रख लेता है। बाद में, खरीदने वाले (receiver) को ही सरकार के पास  इस रिवर्स जीएसटी को जमा भी करना पड़ता है।

सामान के विक्रेता से सरकार को कोई लेना-देना नहीं होगा, क्योंकि वह तो सरकार के टैक्स सिस्टम ( GST Network) से जुड़ा ही नहीं है। इन Reverse Charge वाले सौदों के लिए, रजिस्टर्ड व्यापारी को self-invoic भी बनानी पड़ती है।

जीएसटी में टीडीएस और टीसीएस क्या होता है

B. ई कॉमर्स कंपनी की ओर से दी जा रही सेवा पर

Services through an e-commerce operator

E-Commerce कंपनियों की ओर से दी जाने वाली सेवाओं पर भी reverse charge का नियम लागू होता है। इस Reverse GST का भुगतान स्वयं E-Commerce कंपनी की ओर से सरकार को किया जाएगा। इसके पहले, सौदा करते वक्त ही वह सौदे की कीमत के साथ GST भी जोड़कर ग्राहक से वसूल लेगी।

उदाहरण के लिए UrbanClap provider एक ई-कॉमर्स कपंनी है। यह लोगों को plumbers, electricians, teachers वगैरह की सेवाएं उपलब्ध कराती है। तो UrbanClap की जिम्मेदारी होगी कि वह इन सौदों में सरकार को GST चुकाए।

अगर, रिवर्स चार्ज वसूल करने की जगह पर E-Commerce operator खुद मौजूद न हो, तो भी उसकी तरफ से नियुक्त प्रतिनिधि (Representative) रिवर्स जीएसटी चुकता करने की जिम्मेदारी निभाएगा।

Must Know: जीएसटी में डेबिट नोट और क्रेडिट नोट क्या होते हैं?

C. सीबीईसी की ओर से निर्धारित कुछ विशेष वस्तुओं एवं सेवाओं के सौदों पर

Supply of certain goods and services specified by CBEC

इन सामानों पर लगता है रिवर्स जीएसटी | Reverse charge on Goods

बिना छिले काजू (Cashew nuts) की आपूर्ति : किसान की ओर से रजिस्टर्ड कारोबारी को किए जाने पर

बीड़ी बनाने वाले पत्तों (tendu) की आपूर्ति: किसान की ओर से रजिस्टर्ड कारोबारी को किए जाने पर

तंबाकू के पत्तों (Tobacco leaves) की आपूर्ति: किसान की ओर से रजिस्टर्ड कारोबारी को किए जाने पर

रेशम (Silk yarn) की आपूर्ति: कच्चे रेशम (raw silk) या रेशम के कोकून से Silk बनाने वालों की ओर से रजिस्टर्ड कारोबारी को किए जाने पर

लॉटरी की आपूर्ति : राज्य सरकार, केंद्र शासित प्रदेश या स्थानीय निकाय की ओर से Lottery distributor या selling agent को आपू​र्ति किए जाने पर

इन सेवाओं पर लगता है रिवर्स जीएसटी| Reverse charge on services

CBEC ने ऐसी 12 सेवाओं की सूची जारी notified की है, जिन पर सेवाओं का उपयोग करने वाला reverse charge GST जमा करना होगा।

किसी विदेशी नागरिक से ली गई सेवा के बदले भुगतान पर

माल ढोने वाली ट्रांसपोर्ट एजेंसी की सर्विस  के बदले भुगतान पर

वकील या कानूनी फर्म से सेवाएं लेने के बदले भुगतान पर

Arbitral Tribunal की सेवा के बदले भुगतान पर

प्रायोजित सेवा का उपयोग करने की सेवा के बदले भुगतान पर

सरकार या स्थानीय निकाय की ओर से कारोबारी को उपलब्ध कराई गई विशेष सेवा के बदले भुगतान पर

किसी कंपनी की ओर से डायरेक्टर की सेवा के बदले भुगतान पर

बीमा एजेंट की सेवा  के बदले भुगतान पर

बैंक वित्तीय संस्थान या गैर बैंकिंग वित्तीय संस्था के रिकवरी एजेंट की सेवा  के बदले भुगतान पर

विदेशी माल के आयात के लिए ट्रांसपोर्ट की सेवा  के बदले भुगतान पर

कॉपीराइट (गीत संगीत, फोटो चित्र बगैरह के मामलों में) का प्रयोग करने की अनुमति देने के बदले भुगतान पर

बिजनेस एग्रीगेटरों , जैसे Ola, Uber वगैरह की ओर दी जान वालीं रेडियो टैक्सी की सेवा  के बदले भुगतान पर

नोट: Business Agregators ऐसी कंपनियों को कहा जाता है, जो सिर्फ अपने नाम और तकनीकी सिस्टम के आधार पर चलती हैं। संसाधन किसी और का होता है और उनका उपयोग करने वाले भी कोई अन्य। Business Agregator बिजनेस एग्रीगेटर इन दोनों पार्टियों के बीच अपने ब्रांड और तकनीक के आधार पर पुल का काम करता है और उसमें अपना हिस्सा भी वसूलता है।  जैसे कि Ola, टैक्सी किसी और की होती है और टैक्सी की सेवा लेने वाला कोई और। ओला, सिर्फ अपने सिस्टम से उसे मैनेज करती है और अपना नाम देती है।

रिवर्स आईजीएसटी, सीजीएसटी और एसजीएसटी

IGST, CGST and SGST Under Reverse Charge

किसी दूसरे राज्य के गैर रजिस्टर्ड व्यक्ति से माल या सेवा की खरीद (Inter-state purchases) करने वाले व्यापारी को सरकार के खाते में IGST जमा करना पड़ता है।

अपने ही राज्य के गैर रजिस्टर्ड व्यक्ति से माल या सेवा की खरीद (Intra-state purchases) करने वाले व्यापारी को सरकार के खाते में  CGST (केंद्र का हिस्सा) और SGST (राज्य का हिस्सा) जमा करना पड़ता है।

5000 रुपए प्रतिदिन तक के सौदों पर रिवर्स चार्ज से छूट

अगर unregistered व्यक्तियों से सामान और सेवाओं की खरीदारी 5000 रुपए प्रतिदिन सेे अधिक नहीं है तो फिर ऐसे कारोबारी को रिवर्स जीएसटी चुकता करने की जरूरत नहीं है।

Must See:  सीजीएसटी, एसजीएसटी, UGST और IGST क्या हैं?

रिवर्स चार्ज की आवश्यकता क्यों पड़ी?

Why Does It Need Of Reverse Charge?

Reverse Charge की अवधारणा टैक्स चोरी रोकने और करों का दायरा बढाने के उद्देश्य से बनाई गई है। जो दुकानदार या व्यक्ति GST Network में रजिस्टर्ड नहीं हैं, उनसे GST वसूल पाना तो संभव होता नहीं। ऐसे सौदों को टैक्स के दायरे में रखने और उन पर GST वसूलने के लिए Reverse Charge सिस्टम को विकसित किया गया है।

Leave a Reply

Please Subscribe

 

PLEASE SUBSCRIBE FOR MORE EDUCATIONAL NEWSLETTER & UPDATES

Recent Posts

E-Global India Institute vision 2026
E-Global India Institute vision 2026

STUDENT RESULT

EGIIT RESULTS